गावस्कर ने इंडिया कैप्टन की सेंचुरी को महत्वपूर्ण शतकों में से एक बताया; रहाणे बोले- लॉ‌र्ड्स में लगाई सेंचुरी बेस्ट - NewsSect

News, Bollywood, Sports, Share Market, International, Weather, Automobile, Politics

Breaking

Amazon

Monday, December 28, 2020

गावस्कर ने इंडिया कैप्टन की सेंचुरी को महत्वपूर्ण शतकों में से एक बताया; रहाणे बोले- लॉ‌र्ड्स में लगाई सेंचुरी बेस्ट

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबर्न में दूसरा टेस्ट खेला जा रहा है। मैच की पहली पारी में भारतीय कप्तान अजिंक्य रहाणे ने शानदार सेंचुरी लगाई थी। पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने रहाणे की सेंचुरी को भारतीय क्रिकेट इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण सेंचुरी में से एक बताया है। वहीं, रहाणे ने कहा है कि इंग्लैंड के लॉ‌र्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर 2014 में खेली गई पारी उनकी बेस्ट है।

टीम इंडिया ने विपक्षी टीम को दिया संदेश
गावस्कर ने कहा, 'महत्वपूर्ण इसलिए क्योंकि इससे विपक्षी टीम को एक मैसेज मिला कि भारतीय टीम हार मानने वाली नहीं है। पिछले मैच में 36 पर ऑलआउट होने के बावजूद टीम इंडिया में वापसी करने की क्षमता है। इसलिए मुझे लगता है कि यह भारतीय क्रिकेट इतिहास की महत्वपूर्ण सेंचुरी में से एक है।'

लॉ‌र्ड्स में लगाई गई सेंचुरी बेस्ट
वहीं, रहाणे ने तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा कि सेंचुरी लगाना हमेशा स्पेशल होता है। उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि मेरी बेस्ट सेंचुरी इंग्लैंड के खिलाफ लॉ‌र्ड्स में लगाई गई सेंचुरी (103 रन) है। रहाणे ने कहा कि कप्तानी करना इतना आसान नहीं है। उन्होंने कहा, कप्तानी के दौरान आपको अपने गट फीलिंग को बैक करना होता है। हमारे बॉलर्स ने बहुत अच्छी गेंदबाजी की। सारा श्रेय उन्हें जाता है।'

टीम इंडिया मजबूत स्थिति में
भारतीय टीम पहली पारी में 326 रन पर ऑल आउट हुई। भारतीय कप्तान रहाणे ने पहली पारी में शानदार सेंचुरी लगाई। वे 223 बॉल पर 112 रन बनाकर आउट हुए। इसकी बदौलत टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया पर 131 रनों की लीड ली। इसके जवाब में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक 6 विकेट पर 133 रन बना लिए थे। फिलहाल ऑस्ट्रेलिया का भारत पर महज 2 रन की लीड है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सुनील गावस्कर ने रहाणे की ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेंचुरी को भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण शतकों में से एक बताया।


दैनिक भास्कर,,1733

No comments:

Post a Comment

Pages