लेवनदॉस्की से मेसी-रोनाल्डो पीछे, कोरोना से स्पेनिश क्लबों को 5.4 हजार करोड़ रुपए का नुकसान - NewsSect

News, Bollywood, Sports, Share Market, International, Weather, Automobile, Politics

Breaking

Monday, December 21, 2020

लेवनदॉस्की से मेसी-रोनाल्डो पीछे, कोरोना से स्पेनिश क्लबों को 5.4 हजार करोड़ रुपए का नुकसान

साल बीतने में कुछ ही दिन बचे हैं। 2020 की शुरुआत तो ठीक हुई, लेकिन फिर कोरोनावायरस ने सब चौपट कर दिया। अब फिर चीजें बेहतर होती नजर आ रही हैं। खेल और फुटबॉल के साथ भी यही हो रहा है। साल के खत्म होते-होते अर्जेंटीना के डिएगो मैराडोना और इटली के पाउलो रोसी जैसे दिग्गज फुटबॉलर दुनिया को अलविदा कह गए।

बहरहाल, पोलैंड के स्टार फुटबॉलर रॉबर्त लेवनदॉस्की यह साल बेहद खास रहा। उन्होंने पहली बार एक सीजन में सबसे ज्यादा गोल के मामले में लियोनल मेसी और क्रिस्टियानो रोनाल्डो को एक साथ पीछे छोड़ा। कोरोना की वजह से फुटबॉल जगत को आर्थिक तौर पर भी काफी नुकसान झेलना पड़ा। सबसे ज्यादा नुकसान स्पेनिश क्लबों को हुआ है। घरेलू लीग ला लीगा ने क्लबों की सैलरी कैप में 600 मिलियन यूरो (करीब 5413 करोड़ रुपए) की कटौती की।

लेवनदॉस्की फीफा प्लेयर ऑफ द ईयर चुने गए
जर्मन क्लब बायर्न म्यूनिख के लेवनदॉस्की को फीफा ने हाल ही में बेस्ट फुटबॉलर (FIFA Player for 2020) घोषित किया है। पिछले साल के विनर मेसी और रोनाल्डो को पछाड़कर लेवनदॉस्की ने यह अवॉर्ड जीता। 32 साल के लेवनदॉस्की ने पिछले सीजन के 47 मैच में 55 गोल किए हैं। इसी आधार पर उन्हें यह सम्मान मिला।

लेवनदॉस्की लगातार दूसरे सीजन में मेसी और रोनाल्डो से आगे

सीजन: 2020-21 क्लब मैच गोल असिस्ट
रॉबर्त लेवनदॉस्की बायर्न म्यूनिख 18 20 5
क्रिस्टियानो रोनाल्डो युवेंटस 13 16 1
लियोनल मेसी बार्सिलोना 16 9 4

मैराडोना ने दुनिया को अलविदा कहा
2020 ने फुटबॉल के लेजेंड डिएगो मैराडोना को भी छीन लिया। मैराडोना ने 1986 में अर्जेंटीना को वर्ल्ड कप जिताने में अहम रोल निभाया था। इस टूर्नामेंट में उनका वर्ल्ड फेमस गोल भी शामिल है, जिसे "हैंड ऑफ गॉड" के नाम से जाना जाता है। इसी गोल की मदद से अर्जेंटीना ने इंग्लैंड को टूर्नामेंट से बाहर कर दिया था।

फीफा प्लेयर ऑफ द सेंचुरी रहे मैराडोना
अर्जेंटीना से खेलते हुए मैराडोना ने इंटरनेशनल करियर में 91 मैच खेले, जिसमें उन्होंने 34 गोल किए। उन्होंने 4 FIFA वर्ल्ड कप टूर्नामेंट खेले, जिसमें 1986 का विश्व कप शामिल था। 1986 वर्ल्ड कप में वे अर्जेंटीना के कैप्टन भी थे। वे टूर्नामेंट के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी घोषित किए गए थे। उन्हें गोल्डन बॉल अवॉर्ड जीता था।

मैराडोना को फीफा प्लेयर ऑफ द सेंचुरी से भी नवाजा जा चुका है। उन्होंने एक बार वर्ल्ड कप गोल्डन बॉल, एक बार बेलोन डी ओर, 2 बार साउथ अमेरिकन फुटबॉलर ऑफ द ईयर, 6 बार नेशनल लीग टॉप स्कोरर अवॉर्ड जीता है।

एक ही वर्ल्ड कप में गोल्डन बूट और बॉल अवॉर्डी रोसी भी नहीं रहे
इटली के दिग्गज फुटबॉलर रहे पाउलो रोसी साल का 64 की उम्र में रोसी का 9 दिसंबर को निधन हो गया। रोसी 1982 में फीफा वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम का हिस्सा थे। उन्होंने इस वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा 6 गोल किए थे।

फाइनल में उन्होंने वेस्ट जर्मनी के खिलाफ एक गोल दागा था। इसकी बदौलत इटली 3-1 से फाइनल जीती थी। रोसी एक ही वर्ल्ड कप में गोल्डन बूट और गोल्डन बॉल जीतने वाले 3 खिलाड़ियों में से एक हैं।

स्पेनिश लीग में कटौती से बार्सिलोना को ज्यादा नुकसान
हाल ही में स्पेनिश लीग ला लीगा में फर्स्ट डिवीजन क्लब्स ने अपने सैलरी कैप में जो कटौती की है, उससे सबसे ज्यादा नुकसान मेसी की टीम बार्सिलोना और वेलेंसिया को हुआ। वहीं, रियाल मैड्रिड के पास इस सीजन का सबसे बड़ा बजट रहा। बार्सिलोना ने इस सीजन के लिए सैलरी कैप में लगभग 300 मिलियन यूरो (करीब 2637 करोड़ रु.) की कटौती की है। 2020-21 सीजन के लिए उनकी सैलरी कैप 382.7 मिलियन यूरो (करीब 3359 करोड़ रु.) है, जो पिछले सीजन में 671.4 मिलियन यूरो (करीब 59 हजार करोड़ रु.) थी।

2020-21 सीजन के लिए टॉप-10 ला लीगा टीमों का सैलरी कैप (राशि मिलियन यूरो में)

टीम 2020-21 2019-20 2018-19
रियाल मैड्रिड 468.53 641.05 566.5
बार्सिलोना 382.72 671.43 632.9
एटलेटिको मैड्रिड 252.72 348.5 293
सेविला 185.81 185.17 162.7
विल्लारियाल 145.24 108.59 109.1
एथलेटिक बिल्बाओ 119.82 103.18 87.8
वेलेंसिया 103.4 170.67 164.6
रियाल सोसिदाद 100.88 81.13 80.8
बेटिस 71.3 100.35 97.1
सेल्टा 62.53 62.12 50.9

स्टेडियम में फैंस बैन, सिर्फ रोबोट और कटआउट दिखे
मार्च से बंद हुई फुटबॉल मई में पटरी पर लौटने लगी थी। सबसे पहले जर्मनी में बुंदेसलिगा टूर्नामेंट को 16 मई से किया गया था। फिर धीरे-धीरे स्पेनिश लीग ला लीगा, इटली में सीरी-ए और इंग्लैंड में इंग्लिश प्रीमियर लीग भी शुरू हो गई। आखिर में अगस्त में UEFA चैम्पियंस लीग और यूरोपा लीग भी हुई। हालांकि, इनमें फैंस को स्टेडियम में आने की अनुमति नहीं दी गई।

ताइवान में चाइनीज लीग के दौरान भी फैंस के कटआउट और डमी लगाई गईं। दर्शकों की जगह रोबोट को बैठाया गया। चीयरलीडर्स ने उनके सामने परफॉर्म किया।
डेनमार्क की दानिश सुपरलिगा में फैन्स की मौजूदगी के लिए स्टेडियम में टीवी स्क्रीन लगाई गईं। इनमें ऐप पर लाइव मैच देख रहे फैन्स को दिखाया गया। आवाज के लिए स्टेडियम में स्पीकर भी लगाए गए।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Football Year Ender 2020 Lewandowski beats Messi and Ronaldo Soccer Club loss due to Corona


दैनिक भास्कर,,1733

No comments:

Post a Comment

Pages